News & Press CBFF 2022

News & Press CBFF 2022

Web Coverage

Chitra-Bharti-film-festival-will-be-held-in-bhopal-2022

madhya-pradesh/Bhopal-Chitra-Bharti-national-film-festival

bhopal-arts-and-culture-news

Swadesh-Vishesh

https://www.khabarfatafat.in/%E0%A4%AD%E0%A5%8B%E0%A4%AA%E0%A4%BE%E0%A4%B2-%E0%A4%AE%E0%A5%87%E0%A4%82-%E0%A4%86%E0%A4%AF%E0%A5%8B%E0%A4%9C%E0%A4%BF%E0%A4%A4-%E0%A4%95%E0%A4%BF%E0%A4%AF%E0%A4%BE-%E0%A4%9C%E0%A4%BE%E0%A4%8F/amp/

Chitra-Bharti-filmotsav22-in-bhopal-from-feb-1820

https://doonhorizon.in/states/madhya-pradesh/%E0%A4%AD%E0%A4%BE%E0%A4%B0%E0%A4%A4%E0%A5%80%E0%A4%AF-%E0%A4%9A%E0%A4%BF%E0%A4%A4%E0%A5%8D%E0%A4%B0-%E0%A4%B8%E0%A4%BE%E0%A4%A7%E0%A4%A8%E0%A4%BE-%E0%A4%95%E0%A4%BE-%E0%A4%9A%E0%A5%8C%E0%A4%A5%E0%A4%BE-%E0%A4%B0%E0%A4%BE%E0%A4%B7%E0%A5%8D%E0%A4%9F%E0%A5%8D%E0%A4%B0%E0%A5%80%E0%A4%AF-%E0%A4%AB%E0%A4%BF%E0%A4%B2%E0%A5%8D%E0%A4%AE-%E0%A4%AE%E0%A4%B9%E0%A5%8B%E0%A4%A4%E0%A5%8D%E0%A4%B8%E0%A4%B5-%E0%A4%AD%E0%A5%8B%E0%A4%AA%E0%A4%BE%E0%A4%B2/cid2692618.htm

Chitra-Bharti-filmotsav-22

इलेक्ट्रॉनिक चैनल्स

1. News18

2. Zee Mp/CG

3. Bansal News

4. Anadi TV

5. Swadesh News

6. Dakhal News

7. Nation First

8. IBC24

9. IND24

चित्र भारती कार्यालय का उद्घाटन

Inauguration-of-office-of-Chitra-Bharti-film-festival

Inauguration-of-office-of-Chitra-Bharti-film-festival-in-bhopal

‘चित्र भारती राष्ट्रीय लघु फिल्म उत्सव-2022’ की आयोजन समिति की घोषणा

माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय के बिशनखेड़ी स्थित नये परिसर में होगा फिल्म फेस्टिवल

प्रेसवार्ता में प्रख्यात फिल्म निर्देशक श्री विवेक अग्निहोत्री ने दी जानकारी

भोपाल। भारतीय चित्र साधना के प्रतिष्ठित ‘चित्र भारती राष्ट्रीय लघु फिल्म उत्सव-2022 (सीबीएफएफ-2022)’ का आयोजन 18 से 20 फरवरी, 2022 तक भोपाल में होना है। 14 सितम्बर मंगलवार को होटल पलाश में आयोजित पत्रकार वार्ता में प्रख्यात फिल्म निर्देशक श्री विवेक अग्निहोत्री और भारतीय चित्र साधना के महासचिव श्री अतुल गंगवार ने आयोजन समिति और आयोजन स्थल की घोषणा की। फिल्म फेस्टिवल का आयोजन बिशनखेड़ी स्थित माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय के नवीन परिसर में होगा। इस अवसर पर आयोजन समिति के अध्यक्ष श्री दिलीप सुर्यवंशी एवं सचिव श्री अमिताभ सोनी उपस्थित रहे।

फिल्म निर्देशक विवेक अग्निहोत्री ने कहा कि इस फिल्म फेस्टिवल के द्वारा जमीन से जुड़े लोगों की कहानियां भी आसानी से समाज में पहुंच सकेगी।
हमने संस्कृति को भारतीय सिनेमा से जोड़कर खत्म कर दिया है। हमारे हर उत्सव में आजकल सिनेमा के गाने बजाए जाते हैं। कहानियां ही राष्ट्र की संपत्ति बनती हैं। इसलिए ज़मीन और लोगों से जुड़ी कहानियां सिनेमा के माध्यम से समाज में पहुंचे, इसके प्रयास होने चाहिए।

उदारवादी व्यवस्था ने खत्म किए समस्याओं को मिटाने वाले नायक :

श्री अग्निहोत्री ने कहा कि 1990 के बाद उदारवादी व्यवस्था के साथ सांस्कृतिक आक्रमण भी हुआ। पहले की फिल्मों में भारत का आम व्यक्ति समस्याओं से लड़ता हुआ और जीतता हुआ दिखाया जाता था। लेकिन अब विदेशों में जाकर प्रेम करते हुए ही दिखाया जाता है। फिल्मों से कॉमनमैन गायब हो गया। आज सिनेमा में झूठ दिखाया जा रहा है। क्योंकि भारतीय सिनेमा में फ़िल्म बनाने वाले लोग भारत की संस्कृति से जुड़े नहीं हैं। इसके साथ ही पिछले कुछ समय में विदेशी कंपनियों का दखल बढ़ गया है। आजकल ज्यादातर फिल्मों का कॉपीराइट विदेशी कंपनियों के पास है। भारतीय चित्र फ़िल्म फेस्टिवल जैसे आयोजनों की आवश्यकता है। ताकि भारत के क्रिएटिव लोगों को अपनी कहानियां बताने का मौका मिल सके। उन्होंने कहा कि इस फ़िल्म फेस्टिवल की थीम बहुत आकर्षक हैं। इस अवसर पर फ़िल्म फेस्टिवल का पोस्टर भी लोकार्पित किया गया।

आयोजन समिति के अध्यक्ष श्री दिलीप सूर्यवंशी ने कहा कि भोपाल में फिल्मों को लेकर काफी संभावनाएं हैं। भोपाल में फिल्म इंस्टीट्यूट बनाना हो या इससे संबंधित किसी भी कार्य के लिए वह सदैव तैयार हैं।

भारतीय चित्र साधना के राष्ट्रीय लघु फिल्म उत्सव के चौथे संस्करण के लिए गठित आयोजन समिति में उपाध्यक्ष श्री संजीव अग्रवाल, श्री मयंक विश्नोई, श्री बीएस यादव, श्री अनुपम चौकसे, श्री लक्ष्मेन्द्र माहेश्वरी, श्री लाजपत आहूजा, सह-सचिव श्री आशीष भवालकर, कोषाध्यक्ष श्री दीपक शर्मा, सह-कोषाध्यक्ष श्री इंदर सहोता, सदस्य डॉ. विश्वास चौहान, डॉ. अजय नारंग और श्री दिनेश जैन सहित अन्य सम्मानित नागरिक शामिल हैं। मध्यप्रदेश शासन ने माखनलाल चतुर्वेदी विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. केजी सुरेश को समिति का नोडल अधिकारी बनाया है। संस्कृति विभाग, विश्व संवाद केंद्र मध्यप्रदेश, सतपुड़ा चलचित्र समिति एवं राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय फिल्म फेस्टिवल के सह-आयोजक हैं। प्रेसवार्ता में भारतीय चित्र साधना के न्यासी श्री अजित भाई शाह भी उपस्थित रहे। श्री गंगवार ने फिल्म फेस्टिवल की प्रस्तावना प्रस्तुत की और प्रो. केजी सुरेश ने आयोजन स्थल एवं उससे जुड़ी तैयारियों की जानकारी दी।

उल्लेखनीय है कि सांस्कृतिक राजधानी के रूप में प्रतिष्ठित भोपाल में आयोजित इस तीन दिवसीय फिल्मोत्सव में देशभर से प्रख्यात फिल्मकार एवं कलाकार जुटेंगे, जो फिल्म निर्माण के क्षेत्र में आ रही नयी पीढ़ी का मार्गदर्शन करेंगे। इस अवसर पर विभिन्न श्रेणियों में पुरस्कृत फिल्मों को 10 लाख के नकद पुरस्कार दिए जायेंगे। भारतीय चित्र साधना फिल्म क्षेत्र में भारतीय विचार के लिए कार्य करने वाली समर्पित संस्था है। यह संस्था प्रति दो वर्ष में राष्ट्रीय स्तर पर ‘चित्र भारती राष्ट्रीय लघु फिल्मोत्सव’ का आयोजन करती है। इसके अतिरिक्त वर्षभर विविध प्रकार की गतिविधियाँ एवं स्थानीय स्तर पर फिल्म समीक्षा, फिल्म प्रदर्शन, विमर्श, प्रशिक्षण एवं लघु फिल्म फेस्टिवल के आयोजन संस्था की ओर से किये जाते हैं। प्रत्येक दो साल पर होने वाले राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव का आयोजन इस बार मध्यप्रदेश की राजधानी एवं झीलों के शहर भोपाल में 18 से 20 फरवरी, 2022 तक होना तय है। मध्यप्रदेश के लिए महत्वपूर्ण बात है कि सीबीएफएफ छह साल के अंतराल के बाद इस प्रदेश में लौट रहा है। चित्र भारती के इस प्रतिष्ठित फिल्मोत्सव की शुरुआत ही मध्यप्रदेश की भूमि से हुई है। यह पहली बार वर्ष 2016 में राज्य के बहु-सांस्कृतिक एवं वाणिज्यिक केंद्र इंदौर में आयोजित किया गया था। वर्ष 2016 में राजपाल यादव, मनोज तिवारी, मधुर भंडारकर, केवी विजयेंद्र प्रसाद जैसी हस्तियों ने प्रतिभागियों और दर्शकों के साथ अपने अनुभव साझा किए थे। उसके बाद दूसरा चित्र भारती फिल्मोत्सव 2018 राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में आयोजित हुआ, इस फिल्मोत्सव में 700 से अधिक प्रविष्टियाँ आयीं थीं। वहीं, सीबीएफएफ-2020 का आयोजन कर्णावती, गुजरात में हुआ, जिसमें अन्य दिग्गजों के साथ सुभाष घई और अब्बास-मस्तान जैसे प्रख्यात फिल्म निर्देशकों की भी मास्टर क्लास थी।

कोरोना महामारी ने फिल्म और टेलीविजन उद्योग सहित समाज जीवन के सभी क्षेत्रों को प्रभावित किया है। परन्तु, कोरोना वायरस भारतीय लोगों की जीवटता को प्रभावित नहीं कर सका। यही कारण है कि हम विश्व में सबसे बेहतर ढंग से महामारी का मुकाबला कर पा रहे हैं। लॉकडाउन अवधि के दौरान फिल्म निर्माण गतिविधि को सक्रिय रखने की आवश्यकता को महसूस करते हुए और कोरोना स्वास्थ्य प्रोटोकॉल पर जागरूकता को बढ़ावा देने के लिहाज़ से भारतीय चित्र साधना ने एक ऑनलाइन कोविड-19 लघु फिल्म समारोह का आयोजन भी किया था। इस आयोजन में लोगों ने 250 से अधिक प्रविष्टियाँ भेजीं थीं। इन फिल्मों के माध्यम से कोरोना के प्रति जन-जागरूकता का सन्देश दिया गया था।

भारतीय चित्र साधना भारत की परंपराओं और विविधता का सम्मान करती है और मनाती है और ऑडियो-विजुअल क्षेत्र में भी इसे संरक्षित और बढ़ावा देने के लिए लगातार प्रयासरत है। सीबीएफएफ का प्रत्येक संस्करण सामाजिक और राष्ट्रीय प्रासंगिकता के विषयों पर प्रविष्टियां आमंत्रित करता है। यह वर्ष भारत की स्वतंत्र के 75 वर्ष को याद करने का है। इसलिए ‘भारतीय स्वतंत्रता संघर्ष’ और ‘स्वाधीन भारत के 75 वर्ष’ जैसे विषयों पर भी प्रविष्टियाँ आमंत्रित की गई हैं। फेस्टिवल हेतु 1 सितम्बर से फिल्मकारों ने अपनी फ़िल्में भेजना शुरू कर दिया है।

इन 10 विषयों पर फ़िल्में आमंत्रित :

सीबीएफएफ-2022 के लिए विभिन्न श्रेणियों में 10 विषयों पर फ़िल्में आमंत्रित हैं। भारतीय फिल्म निर्माता 1 सितम्बर से 30 नवम्बर, 2021 तक अपनी फ़िल्में भेज सकते हैं। अधिक जानकारी के लिए चित्र भारती की वेबसाइट देख सकते हैं।

1. भारतीय स्वतंत्रता संघर्ष
2. स्वाधीन भारत के 75 वर्ष
3. अनलॉकडाउन
4. वोकल फॉर लोकल
5. गाँव खुशहाल-देश खुशहाल
6. भारतीय संस्कृति और मूल्य
7. इनोवेशन- रचनात्मक कार्य
8. परिवार
9. पर्यावरण एवं ऊर्जा
10. शिक्षा एवं कौशल विकास

राष्ट्रीय विचार और भाव की स्थापना के लिए काम कर रही है ‘चित्र भारती’ : मंत्री विश्वास सारंग

चित्र भारती राष्ट्रिय लघु फिल्म उत्सव-2022 के मोबाइल एप्प का लोकार्पण, ‘भारतीय सिनेमा, इन्टरनेट, ओटीटी – भविष्य की दिशा’ विषय पर वक्ताओं ने रखे विचार

भोपाल। भारतीय चित्र साधना के प्रतिष्ठित ‘चित्र भारती राष्ट्रीय लघु फिल्मोत्सव-2022 (सीबीएफएफ-2022)’ के एप्प के लोकार्पण समारोह में मध्यप्रदेश शासन के चिकित्सा शिक्षा मंत्री श्री विश्वास सारंग ने कहा कि चित्र भारती राष्ट्रीय विचार और भाव को लेकर चल रही है। सिनेमा में भारतीय विचार को प्राथमिकता मिले, यह आज की आवश्यकता है। इस दौर में फ़िल्मी जगत की जो स्थिति बनी है, उसमें चित्र भारती फिल्म फेस्टिवल जैसे आयोजनों की आवश्यकता है। भारत भवन में आयोजित चित्र भारती के एप्प लोकार्पण के अवसर पर फिल्म फेस्टिवल की आयोजन समिति के अध्यक्ष श्री दिलीप सूर्यवंशी, प्रख्यात अभिनेता श्री पवन मल्होत्रा और जनसंपर्क आयुक्त सुदाम खाडे भी उपस्थित रहे।

कार्यक्रम के मुख्य अतिथि श्री विश्वास सारंग ने कहा कि सिनेमा समाज को सिर्फ उसकी स्थिति ही नहीं बताता है बल्कि समाज को कैसा होना चाहिए, यह भी बताता है। समाज को दिशा देना ही सिनेमा की सार्थकता है। उन्होंने कहा कि फिल्मों से जुड़े व्यक्ति को यह विचार करना चाहिए कि उसका व्यक्तित्व ऐसा हो जो युवा पीढ़ी को सही मार्ग पर लेकर जाए क्योंकि युवा फ़िल्म कलाकारों से प्रेरणा लेते हैं।

मध्यप्रदेश को लेकर भारतीय सिनेमा में पैदा हो रहा है नया विश्वास : श्री दिलीप सूर्यवंशी

कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे श्री दिलीप सूर्यवंशी ने कहा कि मध्यप्रदेश और भोपाल को लेकर भारतीय सिनेमा में एक नया विश्वास पैदा हो रहा है। बड़े फ़िल्म निर्देशक मध्यप्रदेश में अपनी फिल्मों की शूटिंग के लिए आ रहे हैं। उन्होंने कहा कि चित्र भारती के इस प्रतिष्ठित फिल्मोत्सव से भोपाल सहित समूचे मध्यप्रदेश को देश में एक नई पहचान मिलेगी। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि जो अपने अतीत से जुड़ा रहता है, उसका वर्तमान और भविष्य स्वर्णिम रहता है। कार्यक्रम के पूर्व में स्वागत उद्बोधन जनसंपर्क आयुक्त डॉ. सुदाम खाडे ने दिया। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश में फ़िल्म निर्माण का वातावरण बन रहा है। राष्ट्रीय स्तर का यह आयोजन मध्यप्रदेश के लिए महत्वपूर्ण होने वाला है।

छोटे शहरों/कस्बों की प्रतिभाएं हैं मुंबई में : श्री पवन मल्होत्रा

विशिष्ट अतिथि एवं फिल्म अभिनेता श्री पवन मल्होत्रा ने कहा- आप मुंबई आकर देखिये कि छोटे शहरों/कस्बों की लड़कियां और लड़के शो चला रहे हैं। सिनेमा जगत के महत्वपूर्ण कार्य इसी तरह के नौजवान कर रहे हैं। अपनी प्रतिभा को पहचाने, अवसर आपकी प्रतीक्षा कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि शॉर्ट फिल्म में निर्माता को बहुत सीमित समय में अपनी बात कहनी होती है। सिनेमा के माध्यम से संस्कृति संवर्धन की बात करते हुए श्री मल्होत्रा ने कहा कि हमारी संस्कृति नहीं बचेगी तो हम भी नहीं बचेंगे। इसलिए अपनी संस्कृति को बचाएं और उसका संवर्धन करें। हमारी संस्कृति विज्ञान सम्मत है। उन्होंने कहा कि ‘अब तुम्हारे हवाले वतन साथियों’ गीत की इस पंक्ति पर गंभीरता से विचार करना चाहिए। जो देश हमें सौंपा गया, उसके लिए हम क्या कर रहे हैं?

फिल्म फेस्टिवल की सम्पूर्ण जानकारी ‘चित्र भारती एप्प’ पर : श्री चाणक्य शुक्ला

समारोह में लोकार्पित चित्र भारती फिल्म फेस्टिवल से सम्बंधित एप्प की जानकारी देते हुए श्री चाणक्य शुक्ला ने कहा कि चित्र भारती का यह एप्प नि:शुल्क डाउनलोड किया जा सकता है। यह एप्प एंड्राइड और आईओएस ऑपरेटिंग सिस्टम वाले मोबाइल फोन पर उपयोग किया जा सकेगा। इस एप्प पर फिल्म फेस्टिवल की सम्पूर्ण जानकारी रहेगी। एप्प के माध्यम से प्रतिभागी मास्टर क्लास, फिल्मों की स्क्रीनिंग, कार्यक्रम स्थलों की जानकारी, अभ्यागत फ़िल्म अभिनेताओं, कलाकारों और विषय विशेषज्ञों की जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। इसके साथ ही एप्प पर पंजीयन कर फ़िल्म फेस्टिवल के वॉलेंटियर बन सकते हैं। एप्प के माध्यम से प्रतिभागी विभिन्न कार्यक्रमों के संबंध में अपना फीडबैक दे भी सकते हैं और फेस्टिवल के सम्बन्ध में अपनी स्टोरी शेयर कर सकते हैं।

फेस्टिवल में आई हैं 600 से अधिक फ़िल्में : श्री अतुल गंगवार

भारतीय चित्र साधना के महासचिव श्री अतुल गंगवार ने बताया कि 18 से 20 फरवरी, 2022 को भोपाल में होने जा रहे चित्र भारती राष्ट्रीय लघु फिल्म उत्सव के लिए देशभर से 600 से अधिक शार्ट फ़िल्में प्राप्त हो चुकी हैं। उन्होंने बताया कि चित्र भारती के माध्यम से फ़िल्म के क्षेत्र में नई ऊर्जा के साथ युवाओं को लाने का प्रयास किया जा रहा है। इस फेस्टिवल में देश के बड़े फ़िल्म कलाकारों एवं फ़िल्म निर्माताओं से मिलने का अवसर मिलेगा।

देश और समाज हित में ओटीटी प्लेटफार्म पर नियंत्रण आवश्यक

चित्र भारती के एप्प लोकार्पण के अवसर पर ‘भारतीय सिनेमा, इन्टरनेट, ओटीटी- भविष्य की दिशा’ विषय पर परिसंवाद का भी आयोजन किया गया। इस अवसर पर मुख्य वक्ता एवं वरिष्ठ पत्रकार श्री प्रखर श्रीवास्तव ने कहा कि ओटीटी प्लेटफार्म का सहारा लेकर एक विचारधारा भारतीय संस्कृति एवं राष्ट्रीयता की जड़ें खोदने का काम कर रही है। जब हम वर्तमान को नहीं देखेंगे, उसे सुधरेंगे नहीं तो भविष्य की चिंता कैसे करेंगे। भविष्य को सुधारना है तब आवश्यक है ओटीटी प्लेटफॉर्म पर नियंत्रण लगाया जाए। उन्होंने कहा कि नियंत्रण अभिव्यक्ति और रचनात्मक स्वतंत्रता को बाधित नहीं करता है। नियंत्रण एक हद तक अनुशासन भी बनाता है। उन्होंने कहा कि रचनात्मक अभिव्यक्ति के नाम पर वेबसीरीज के माध्यम से भारत विरोधी विचार को आगे बढ़ाया जा रहा है। वेबसीरिज की शुरुआत ही झूठ से होती है। ये बताती हैं कि यह कहानी काल्पनिक हैं लेकिन ये तत्कालीन घटनाओं को आधार बनाती हैं और उस घटना के सच को छिपाकर, एक विशेष प्रकार के झूठ को गढ़ा जाता है। उन्होंने फैमिलीमैन, पाताललोक, तांडव और लैला से लेकर कई वेबसीरिज के उदाहरण देकर बताया कि कैसे चालाकी के साथ हिन्दू धर्म और भारतीयता के विचार पर हमला किया जा रहा है।
इस अवसर पर सोशल मीडिया विशेषज्ञ श्री नितिन शुक्ला ने कहा कि आज प्रत्येक व्यक्ति सिनेमा की पहुंच में है। पहले सिनेमा पर कुछ लोगों का विशेषाधिकार था लेकिन सोशल मीडिया जैसे नए माध्यमों ने इस वर्चस्व को तोड़ दिया। अब साधारण लोग अपनी प्रतिभा का लोहा मनवा रहे हैं। उनके काम को करोड़ों व्यूज और लाइक मिल रहे हैं। उन्होंने कहा कि हमें अपनी फिल्मों में भारतीयता के विचार को केंद्र में रखकर चलना चाहिए। इस अवसर पर माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. केजी सुरेश एवं संस्कृति विभाग के संचालक श्री अदिति कुमार त्रिपाठी भी उपस्थित रहे। कार्यक्रम का संचालन श्री शुभम चौहान तामोट ने किया और आभार प्रदर्शन आयोजन समिति के सचिव श्री अमिताभ सोनी ने किया। कार्यक्रम में फिल्म और कला क्षेत्र के प्रमुख लोग एवं विभिन्न शिक्षा संस्थाओं के युवा फिल्म निर्माता और विद्यार्थी उपस्थित रहे।

कार्यक्रम के विजुअल यहाँ से डाउनलोड करें
https://drive.google.com/drive/folders/1SLxJYHvxs7kTHHO1CpyTBo_fi3TmdNmp?usp=sharing

चित्र भारती की वेबसाइट : https://chitrabharati.org

भवदीय
अमिताभ सोनी
सचिव
संपर्क – 8959222777

Bhartiya Chitra Sadhna